2 line sad shayari in hindi | दो लाइन शायरी | two line hindi shayari

2 line sad shayari in hindi 


2 line sad shayari in hindi | दो लाइन शायरी | two line hindi shayari



-:Category:-
Shayari in Hindi, 2 line shayari hindi, two line hindi shayari, 2 line sad shayari in hindi, 2 line shayari, 2 line sad shayari, two line love shayari, दो लाइन शायरी,



2 line sad shayari in hindi

ले तो लँ सोते में उसके पाँव का बोसा' मगर,
ऐसी बातों से वो काफिर बदगुमाँ हो जाएगा।
                                           -मिज्जा गालिब

जिस लव से गैर बोसे ले, उस लब से 'शेफ्ता'
भी नहीं मेरे वास्ते।
                   -शेफ्ता

क्या खूब, तुमने और को बोसा नहीं दिया,
बस चुप रहो हमारे भी मुँह में जबान है।
                                   -मिर्जा गालिब

क्या नजाकत ये कि आरिज उनके नीले पड़ गये,
हमने तो बोसा लिया था ख्वाब में तस्वीर का।
                                                    -अज्ञात

बोसाये - रुखसार पर तकरार रहने दीजिये,
लीजिये या दीजिये तकरार रहने दीजिये।
                                   - हफीज जौनपुरी

ले लो बोसा अपना वापिस किसलिये तकरार' की,
क्या कोई जागीर हपने छीन ली सरकार की।
                                        - अफसर मेरठी


2 line shayari | दो लाइन शायरी | Two line love shayari



फेर लो बोसे रुखे गुलफाम के,
गैर के झूठे मेरे  किस काम के ।
                               - रासिख

कोई मुँह चूम लेगा इस नहीं पर,
शिकन रह जायेगी बाकी जबी पर।
                       -रियाज खैराबादी

एक बोसे के तलबगार हैं हम,
और माँगें तो गुनाहगार हैं  हम।
                                      -जार

आज बोसे उनके गिन-गिन के लिये,
दिन गिना करते थे इस दिन के लिए।
                              -कवि अमरोही

बोसे अपने आरिजे गुलफाम के,
ला मुझे दे दे तेरे किस काम के।
                                    -अज्ञात

सोहबत में गैर की न पड़ी हो कहीं खूँ,
देने लगा बोसे बगैर इल्तिजा किए।
                                      - गालिब

बोसा देने में जो पूछा कि क्या बिगड़ता है,
बोले लेने में कहो आपको मिलता क्या है।
                                              - अज्ञात

2 line shayari | दो लाइन शायरी | Two line love shayari



बोसा तलब किया तो यह कहने लगा वह बुत,
कुदरत खुदा की तुमको भी यह होसला हुआ।
                                           - अमीर मीनाई

कोन कहता है कि बोसा दो हमें,
लब फकत रख लेने दो रुखसार पर।
                                          - अज्ञात

बेखुदी में ले लिया बोसा खता कीजे मुआफ,
यह दिले बेताब की सारी खता थी, में न था।
                                                   - जफर

कन्दे लब का उसके बोसा वेतकल्लुफ ले लिया,
गलियां खाई बला से मुँह तो भीठा हो गया।
                                                   -मस्तून

बोसा मुझको नहीं देते झिड़की ही सही,
नहीं दरवाजा जो खुल सकता खिड़की ही सही।
                                                          - इन्सा

लोग कहते हैं जिन्हें नील कैँवल वो तो 'कतील'
शब को इन झील सी आँखों में खिला करते है।
                                          -कर्तील शिफाई


2 line shayari | दो लाइन शायरी | Two line love shayari




आँख क्या है मोहनी है, सेहर है, एजाज है,
इक निगाहे-लुत्फ में सारा गिला जाता रहा।
                                        -अमीर मीनाई


देखी थी एक रोज तेरी मस्त अँखड़ियाँ,
अंगड़ाइयाँ सी लेते हैं अब तक खुमार में।"
                                    - मीर तकी 'मीर"

वो चीज कहते हैं फिरदौसे- गुमशुदा जिसको,
कभी-कभी तेरी आँखों में पाई जाती है।
                                             -जिगर

यूँ चुराई उसने आँखें, सादगी तो देखिए,
बज्म में गोया मेरी जानिब इशारा कर दिया।
                                      - फानी बदायूनी

आँखें दिखाइयो न तुम ए दिलरुबा मुझे,
इन खिड़कियों से झाँक रही है कज़ा मुझे।
                                                - अज्ञात

उन रस भरी आँखों में हया खेल रही है.
दो जहर के प्यालों में कजा खेल रही है।
                                - अख्तर शीरानी

वो आँखें अपने काम से गाफिल नहीं फिराक,
कुछ देर रह ले होश, हर इक होशियार का।
                                  -फिराक गोरखपुरी




Tags:-
Shayari in Hindi,
2 line shayari hindi,
two line hindi shayari,
2 line sad shayari in hindi,
2 line shayari,
2 line sad shayari,
two line love shayari,

दो लाइन शायरी,

Post a Comment

0 Comments